भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

रामदेव / पंकज चौधरी

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 11:15, 10 जुलाई 2018 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=पंकज चौधरी |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KKCatKav...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ऐसा क्‍यों है कि
रामदेव के पास हजारों करोड़ की संपत्ति है
एक से एक लेटेस्‍ट मॉडल की गाडि़यां हैं
स्‍कॉटलैंड के किसी द्वीप पर भी उनका एक घर है
करोड़ों के लिए वह बाबा हैं
स्‍वामी हैं
लाखों ब्राह्मण-राजपूत उनका चरण-स्‍पर्श करते हैं
राजनीतिक गलियारों में उनके लम्‍बे-चौड़े रसूख हैं
उनके बोल लाखों के लिए ‘प्रवचन’ होते हैं
उनके एक आह्वान पर जनसैलाब उमड़ पड़ता है
और संघ परिवार भी उनके बचाव में उतर आता है

बावजूद इसके
उनका पिछड़े वर्ग की ‘यादव’ जाति से होना
सबसे ज्‍यादा मायने रखता है?

ऐसा क्‍यों है?
ऐसा क्‍यों है?