भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

बैरंग चिट्ठी / नरेन्द्र कठैत

Kavita Kosh से
Abhishek Amber (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 04:40, 15 मार्च 2018 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=नरेन्द्र कठैत }} {{KKCatGadhwaliRachna}} <poem> भैजी!...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

भैजी! तुम परदेसी!
अर मी देसी ह्वेकि बि
पाड़ी ह्वे ग्यों

पर मी चाणू छौं
जरा सि हथ फैलौणू
हौरि जगा मिल जौ

बुरु नि मण्यां !
वुन बि खन्द्वार ह्वे ग्या
तुमारु सरु घौर

जथगा लिपुण-घसुण मा लगौण
उथगा मा तक्खि फुण्ड
द्वी गज हौरि लै ल्या धौं !

बस्स! एक बार घौर ऐकि
यिं बचीं जगा-जमीन
म्यरा नौ कर जा धौं !

-तुमारि जग्वाळ मा
  लैन्टाना
  पुत्र श्री देसी खौड़।