भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

ललकार का स्वागत (मुक्तक) / शंकरलाल द्विवेदी

Kavita Kosh से
Rahul1735mini (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 13:51, 1 दिसम्बर 2020 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=शंकरलाल द्विवेदी |संग्रह= }} {{KKCatMuktak}}...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

यहाँ हर हृदय का स्वागत, सदा होता हृदय से है।
मगर ललकार का स्वागत, सदा तलवार करती है।।
तुम्हें कर तो क्षमा देते; मगर बदला चुकाने को-
हमारे देश की धरती हमें लाचार करती है।।