भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

कुदरत की बख्शी सौग़ात को ज़िन्दा रक्खेंगे / ओम प्रकाश नदीम

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 13:13, 1 दिसम्बर 2014 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=ओम प्रकाश नदीम |अनुवादक= |संग्रह= }} ...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कुदरत की बख्शी सौग़ात को ज़िन्दा रक्खेंगे ।
जब तक ज़िन्दा हैं जज़्बात को ज़िन्दा रक्खेंगे ।

चाहे जितनी आग उगलें ये गर्मी के सूरज,
सावन के मौसम बरसात को ज़िन्दा रक्खेंगे ।

चाहे पैदल घोड़े हाथी सारे मर जाएँ,
लेकिन शाह रहेंगे मात को ज़िन्दा रक्खेंगे ।

कब तक सुब्ह न होगी कब तक सोएगा सूरज,
कब तक चाँद सितारे रात को ज़िन्दा रक्खेंगे ।

उनको ठेका लेना है हमवार बनाने का,
वो ऊबड़-खाबड़ हालात को ज़िन्दा रक्खेंगे ।