भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

बरबाद न कर बेकस का चमन... / अमजद हैदराबादी

Kavita Kosh से
Dkspoet (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 17:45, 4 नवम्बर 2009 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बरबाद न कर बेकस का चमन, बेदर्द ख़िज़ाँ से कौन कहे।
ताराज़<ref>नष्ट</ref> न कर मेरा खिरमन<ref>खलिहान</ref>, उस बर्के़-तपाँ<ref>कौंधती हुई बिजली</ref> से कौन कहें॥

मुझ ख़स्ता जिगर की जान न ले, यह कौन अजल को<ref>मृत्यु को</ref> समझाएं।
कुछ देर ठहर जा ऐ दरिया! दरिया-ए-रवाँ से कौन कहें॥

सीने में बहुत ग़म है पिन्हा और दिल में हज़ारों हैं अरमाँ।
इस क़हरे-मुजस्सिम <ref>साक्षात मौत</ref> के आगे, हाल अपना ज़बाँ से कौन कहे॥

हरचंद हमारी हालत पर रहम आता है हर इक को लेकिन--
कौन आपको आफ़त में डालें, उस आफ़ते-जाँ से कौन कहे॥

क़ासिद के बयाँ का ऐ ‘अमजद’ क्योंकर हो असर उनके दिल पर
जिस दर्द से तुम ख़ुद कहते हो, उस तर्ज़ेबयाँ से कौन कहे॥


शब्दार्थ
<references/>