भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

देहरी / सुदर्शन प्रियदर्शिनी

Kavita Kosh से
Dkspoet (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 20:14, 22 जुलाई 2011 का अवतरण (नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=सुदर्शन प्रियदर्शिनी |संग्रह= }} {{KKCatKavita}} <Poem> तुम्ह…)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तुम्हारी
देहरी के अन्दर की यातनाएँ
दुर्योधन की बिछी बिसातें
टेढी चाल चलने वाले
मोहरों की तरह
आज भी
युधिष्ठिर को हराती हैं

वही बेढंगे सवाल
वही मेरे वजूद को
मेरे कपड़ों के दर से
बेधती हुई निगाहें

मेरे भावों
और अभावों
की उड़ती हुई खिल्ली
मुझे बाहर के झझांवतों से
कहीं ज्यादा सालती है।