भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

कविता / अनंत भटनागर

Kavita Kosh से
Dkspoet (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 18:18, 17 अप्रैल 2011 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कविता का ‘क’,
‘ख’, ‘ग’
खग बन गया है
‘वि’
विवश है
और ‘ता’
तालियाँ
तलाश रहा है।
कविता बन रही है।
कविता बिगड रही है।