भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

भैरवी / शब्द प्रकाश / धरनीदास

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 17:35, 21 जुलाई 2016 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=धरनीदास |अनुवादक= |संग्रह=शब्द प्...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

1.

पथिक! काह कहत अबेर! टेक!
दिवस लम्बित दूर पथ अति चैतु चितहिँ सवेर॥
तोरि कुल परिवार नातो धरको धंधा त्याअग। आरे आ मन आलसी जड़, अजहुँ देखु न जागि॥
संग करिले संत जनको, कपट कापड़ धोय। संत के सामर्थ्य मग चढ़ि, जरा मरन न होय॥
जिन गहो जगदीश को व्रत, सोइ जगमेँ शूर। धरनिदास विलास सतभो, जिन मिले गुरूपुर॥

2.

मनहू काह फिरत भुलान। टेक।
आपु घर की सुधि न आवै, आपु फिरत भुलान। आपु ते परिचय भई तब आपही ठहरान॥
काहि करिये आपनो हित, काहि करिय वेगान। कहिसाँ कछु जाँचि लीजै, काहि दीजै दान॥
काहि कहिये कहि सुनिये, काहि लीजै ज्ञान। गावते पढते वनै नहि, पूजते कछु आन॥
काँह रहिये काँ जइये, काहि धरिये ध्यान। दास धरनी मगन होई रहु, देखि गगन निशान॥2॥