भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

सहाना / शब्द प्रकाश / धरनीदास

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 18:24, 21 जुलाई 2016 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=धरनीदास |अनुवादक= |संग्रह=शब्द प्...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

217.

ध्यान धनी को जो करै, हर दम धरि बिलमाँहि।
पारतरे बिनु नावरी, दरिया बूड़ै नाहि॥
पवन पवारि सकै नहीं, वहि नहि अगिन जराव।
कोइ न करै जोरावरी, काल सकुचि शिरनाव।
दूलह दिन दूनी सदा, निशि दिन सुमत संहाना॥
बोलै शब्द सोहावना, साँच के साँचे ढारि।
तासु बराबर को तुलै, धरनीदास पुकारि॥1॥