भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

गुरु प्रणाली / शब्द प्रकाश / धरनीदास

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 16:41, 21 जुलाई 2016 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=धरनीदास |अनुवादक= |संग्रह=शब्द प्...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सत गुरु रामानन्द, चन्द पूरन परकासो। सुजस सुरसुरानन्द, वैइलियानन्छ विलासो॥
सुकृत सिउरिपानन्द, चेतनानछ चेताओ। विरुद विहारी राम, दास मसनंद कहाओ॥
विमल विनोदानन्द प्रभु, दरश परस पातक गओ।
धरनीदास प्रकाश उर, गुरु परनाली गहि लओ॥9॥