भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

अपनी बेटी के लिए / डेविड इग्नटाओ / सरबजीत गर्चा

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 01:17, 10 जून 2017 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=डेविड इग्नटाओ |अनुवादक=सरबजीत गर...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जब मैं मर जाऊँ तुम एक तारा चुन लेना
और देना उसे मेरा नाम
ताकि तुम्हें मालूम हो जाए
कि मैंने तुम्हें छोड़ा नहीं है
न ही तुम्हें भुलाया है

तुम ऐसा ही तारा थीं मेरे लिए
मैं रहा तुम्हारे पीछे-पीछे
तुम्हारे जन्म और बचपन से गुज़रते हुए
अपने हाथ में तुम्हारा हाथ थामे हुए

जब मैं मर जाऊं
तुम एक तारा चुन लेना और देना उसे
मेरा नाम ताकि मैं तुम पर
न्योछावर कर सकूं अपनी चमक जब तक कि
तुम अन्धेरे और ख़ामोशी में आकर
निभाने न लगो मेरा साथ

मूल अँग्रेज़ी से अनुवाद : सरबजीत गर्चा