भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

इससे पहले कि / कुमार राहुल

Kavita Kosh से
सशुल्क योगदानकर्ता ५ (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 13:36, 15 मई 2020 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=कुमार राहुल |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KKCat...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

इससे पहले कि
समन्दरों की तलाशी हो
और निकली जाए जिन्दा लाशें

इससे पहले कि
ज़र्फ़ का कोई पहलू
होने लगे कुछ और नुमायाँ

इससे पहले कि
याद का कोई कतरा
रिसने लगे
उदासी के कमरे से

इससे पहले कि
धुंए ढांप लें
सांस के शहर को

इससे पहले कि
ज़मींदोज़ हो
तवक्को को लपेटे उम्र

इससे पहले कि
कहानियाँ दोहराई जाएँ
और नादिम हों
किरदार

इससे पहले कि
दार पर पिघले
नया बिलकुल नया
इक ख़्वाब

इससे पहले कि
जिंदगी खींचें
क़ज़ा के आखिरी क़श

इससे पहले कि
लरज़ने लगे
नाकिदों के गुफ़्तार

इससे पहले कि
कुछ और नौमेद हों
जिन्दगी से हम

तुम चले आना...