भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

धुनि आरती / शब्द प्रकाश / धरनीदास

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 18:32, 21 जुलाई 2016 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=धरनीदास |अनुवादक= |संग्रह=शब्द प्...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

248.

जय प्रथम परमेश पर गुरु, दुतिय दुस्तर-तारन।
तृतिय त्रिगुण-रहित कथित चित, चौथ चेतु चतुर्भुज।
पँचये परमानंद पूरन, छठयँ छोरन-बंधन॥
सप्तमे सुमिरहु सदाशिव, अष्टमे अघ खंडन।
नवमें नारायण, निरंजन, दसयें दुर्गति-नाशन॥
एकादस एक सर्व-व्यापक द्वादशे दुख-मोचन।
त्रयोदशे भु लोक-नायक, चौदसे चक्रायुध।
पन्द्रहें पदमासन भजु, षोडशे खल-खंडन।
सत्रहँ संतन शिरोमणि, अठारहे अविनाशिनं॥
उनइसें उर-अंतरे भाजु, वीसयें विश्वंभर।
सुचित चित करि उचित करि उचित भरि भरि रुचित मन वच कर्मन॥1॥