भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

सबसे ऊपर जाति / पंकज चौधरी

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 11:30, 10 जुलाई 2018 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=पंकज चौधरी |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KKCatKav...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

घर-घर में
दीये जलाए जा रहे हैं
पटाखें फूट रहे हैं अविराम
अबीर-गुलाल उड़ाये जा रहे हैं बेरोक-टोक
ढोल-मंजीरें बजाए जा रहे हैं जोरदार
मुंह मीठा किया जा रहा है सबका

यह कोई
दीपावली-होली का त्योहार नहीं,
अपने देश द्वारा
अग्नि मिसाइल के सफल परीक्षण की ख़ुशी नहीं
या
भारत द्वारा पाकिस्तान को
क्रिकेट में रौंदे जाने का जलसा भी नहीं
बल्कि अपनी जाति के किसी वीर का
सूबे का मुखिया बन जाने का विजय उत्सव है
भले ही वह
हिटलिस्टेड और मोस्ट वांटेड अपराधी ही क्यों न रहा हो!