भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

साकट (शाक्त) / शब्द प्रकाश / धरनीदास

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 22:08, 19 जुलाई 2016 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=धरनीदास |अनुवादक= |संग्रह=शब्द प्...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

धरनी साकट जो रहै, निष्फल भौ अवतार।
कारज कियो न अपनो, जननी माटी भार॥1॥

दुखिया वैष्णव अति भला, सुखिया साकट नाँहि।
धरनी हरि-पुर तोलनो, या संग तलै न ताहि॥2॥

धरनी साकट बन्धुते, करो न आदर भाव।
करिये संगति साधु की, सन्तन शील स्वभाव॥3॥

धरनी कही पुकारिके, सुनो हमारो वैन।
साकट-हाथ न खाइये, संग न करिये शैन॥4॥

जाकी जोरु साकटी, भकत भयो है पुर्ख (पुर्ष)।
धरनी मता मिलै नहीं, एक पण्डित एक मुर्ख॥5॥

धरनी साकट सो कहिय, जीव-दया नहि जीय।
दयावन्त वैष्णव जनहिँ, विहँसि मिलैगा पीय॥6॥

धरनी साकट साधुसों, कबहीं बनै न संग।
संगति होय तो सुख नहीं, व्याधा अवर विहंग॥7॥