भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

मलार / शब्द प्रकाश / धरनीदास

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 18:15, 21 जुलाई 2016 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=धरनीदास |अनुवादक= |संग्रह=शब्द प्...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

171.

करु मन कर्त्ताराम सनेही।टेक।
निशि वासर अरु आदि अंतलोँ, मूल मंत्र जग येही॥
परि हरि कुमति पकरि सत-संगति, जन्म सुफल करि लेही।
और के गर्व कहाँ गर्वाधो, चलिहै दगा दे देही॥
नरक निवास बास जब होतो, त्राहि त्राहि उचरोही।
जिन तोहि दियो अहार अधोमुख, ताहि कहाँ विसरोही॥
भीतर भवन रतन बिसराओ, बाहर ढूँढि फिरोही।
धरनी श्री भगवंत भजन करि, भवजल सुखहिँ तरोही॥1॥