भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

उळथो / कमल रंगा

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 09:06, 15 अक्टूबर 2013 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हरियल पानां
काठ तणै री सोभा
अंतस पीड़ रो
रूप संजीवण
उळ्थो ओ
रूप रो सरूप में