भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

विनय 2 / शब्द प्रकाश / धरनीदास

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 04:31, 21 जुलाई 2016 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=धरनीदास |अनुवादक= |संग्रह=शब्द प्...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आवत जात प्रवाह सदा, धन जोरि बटोरि धरो न कबाहीं।
तू महराज गरीब नेवाज, अकाज सुकाज को लाज तुमही॥
जो हृदये हरि को पदपंकज सो मति मो मनते विसराही।
कहे धरनी मनसा वच कर्मन, मोहि परो अवलम्बन नाही॥18॥