भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

विनय 5 / शब्द प्रकाश / धरनीदास

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 05:47, 21 जुलाई 2016 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=धरनीदास |अनुवादक= |संग्रह=शब्द प्...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पतित-उधारन है वान भगवान तेरो, मेरो गुन अवगुन जो नक न विचारि हौ।
जो दयाल देव दीन जानि दया करो तो मैं, धर्मराज चारवीस चोर ते उवारिहौ॥
करनी गुनो न मोरी धरनी कहै पुकारि, शरनी लई जो गुरु सो जनी विसारि हौ।
तारे हो अनेक अपराधी अकलंकी देव, तौ मैं तोहिँ जो माँसे मूढ़ तारिहौ॥36॥