भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

बोल तोता, बोल / रामदेव सिंह 'कलाधर'

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 10:41, 16 सितम्बर 2015 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=रामदेव सिंह 'कलाधर' |अनुवादक= |संग्...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हरे रंग का एक-एक ‘पर’,
लाल चोंच है कितनी सुंदर,
लाल फूल की माला दी है-
किसने तुझे अमोल?
बोल तोता!बोल।

कौन कला का शिक्षक तेरा,
जिसने रंग गले पर फेरा,
किस विद्यालय में तू पढ़ता?
मौन न रह मुँह खोल।
बोल तोता! बोल।

साथी मुझे बनाना आता,
‘सीता-राम’ पढ़ाना आता,
और किसी से प्रेम करेगा?
यह दुनिया है गोल।
बोल तोता! बोल।

मुझको भी उड़ना सिखला दे,
पके ‘कलाधर’ सुफल खिला दे,
दिया करूँगा मैं भी क्षण-क्षण,
कानों में मधु घोल।
बोल तोता! बोल।