भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

दिल में जो कुछ मलाल रखते हैं / आलोक यादव

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 14:34, 27 नवम्बर 2017 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=आलोक यादव |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KKCatGhazal...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दिल में जो कुछ मलाल रखते हैं
लब पे वो कुछ सवाल रखते हैं

जो हैं ख़ुद्दार वो हैं ख़ाली हाथ
जो है पाबोस[1] माल रखते हैं

नौजवानों से मत करो तकरार
ये लहू में उबाल रखते हैं

मालो-ज़रसन्दर्भ त्रुटि: अमान्य <ref> टैग; नाम रहित संदर्भों में जानकारी देना आवश्यक है हो कि इज़्ज़तो - शोहरत
सब उरुजो-ज़वाल[2] रखते हैं

नेक औलाद इसलिए पाई
हम कमाई हलाल रखते हैं

सच तो शायद कभी न हों लेकिन
हम को वादे निहाल रखते हैं

सूर, तुलसी, कबीर और मीरा
कब ये अपनी मिसाल रखते हैं

और 'आलोक' अपने पास है क्या
इक दिले-पायमाल[3] रखते हैं

शब्दार्थ
  1. पैर चूमने वाला /चाटुकार
  2. उत्थान पतन
  3. पद्द्लित