भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

कभी न बेचो ज़मीर अपना कभी तो मेहनत असर करेगी / सुनीता पाण्डेय 'सुरभि'

Kavita Kosh से
Rahul Shivay (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 18:24, 27 मई 2019 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=सुनीता पाण्डेय 'सुरभि' |अनुवादक= |स...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कभी न बेचो ज़मीर अपना कभी तो मेहनत असर करेगी।
रखो मुहब्बत सदाक़तों से इन्हीं की चाहत असर करेगी।

मैं माँगती हूँ खुदा से तुझको यक़ीन है तू मिलेगा मुझको-
कि इक न इक दिन तो तेरे दिल पर मेरी मुहब्बत असर करेगी।

न जीत होगी अदावतों की, तू मेरा है, तू रहेगा मेरा-
मेरी मुहब्बत में है सदाक़त मेरी सदाक़त असर करेगी।

ये इश्क़ क्या है समझ ही लेंगे सब इसकी सारी हक़ीक़तों को-
लिखी है जो खूने-दिल से हमने यही इबारत असर करेगी।

जो गुफ्तगू में हों तल्खियाँ तो बुराइयाँ-ही-बुराइयाँ हैं-
अगरचे लहजे में हो मुहब्बत तभी मुहब्बत असर करेगी।