भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

मत रो मेरे पंजाब / सुरेश कुमार मिश्रा 'उरतृप्त'

Kavita Kosh से
सशुल्क योगदानकर्ता ५ (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 08:33, 3 अगस्त 2020 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=सुरेश कुमार मिश्रा 'उरतृप्त' |अनु...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जब तक किसान मरते नहीं
तब तक रुपए मिलते नहीं
यही किस्सा पंजाब का है
एक सोती हुई सरकार का है
खुले बाजार में जब
अनाज सड़ रहा था
ब्रीच कैंडी अस्पताल में
ऑपरेशन चल रहा था
घुटने के लिए यज्ञ हुए
लेकिन पंजाब को आखिर कौन पूछे
सरकार ने एक साल पूरा किया
लेकिन आश्चर्य है इनको
पंजाब का दर्द सुनाई नहीं दिया।