भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

मन / शब्द प्रकाश / धरनीदास

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 21:57, 19 जुलाई 2016 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=धरनीदास |अनुवादक= |संग्रह=शब्द प्...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मनते कारज होत है, मनते होत अकाज।
कतहूँ डेंगी डग मगै, कतहूँ होत जहाज॥1॥

मन मृग खेती खातु है, धरनी यतन जोगाव।
घरमाँ घायल आन है, तासो जारि बुझाव॥2॥

मुन कुरंग फानत फिरै, धरनी रन वन फूलि।
प्रेम पारखी घेरते, गयो चौकड़ी भूलि॥3॥

धरनी यही सिखावनो, मन में आनि सुबोधु।
जिन अपने मन बोधिया, तिनको सब परमोधु॥4॥

मन मैना तन पींजरा, धरनी प्रीति बढ़ाव।
ऊठत बैठत सोवते, रामै नाम पढ़ाव॥5॥

धरनी सोवत है कहाँ, मन! मूरख उठि जागु।
फिरत कहां त बाबरे, कर्त्ता रामहिं लागु॥6॥

धरनी बरजोरी करो, मनुवा लम्पट पूल।
गुरु-द्वारे लड़कांइये, लपट दूबको मूल॥7॥

धरनी मन व्याधा फिरै, मिटै न वाको स्वाद।
ऐसो सावज मिलि गयो, उलटि बझावै व्याध॥8॥