भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

ओ दूर जाने वाले वादा न भूल जाना / साग़र निज़ामी

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 15:20, 18 जनवरी 2015 का अवतरण (Sharda suman ने ओ दूर जाने वाले वादा न भूल जाना / सागर निज़ामी पर पुनर्निर्देश छोड़े बिना उसे [[ओ दूर जाने...)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ओ दूर जाने वाले वादा न भूल जाना ।
रातें हुई अन्धेरी तुम चान्द बनके आना ।

अपने हुए पराए दुश्मन हुआ ज़माना ।
तुम भी अगर न आए मेरा कहाँ ठिकाना ।

आजा किसी की आँखें रो-रो के कह रही हैं,
ऐसा न हो कि हमको करदे जुदा ज़माना ।