भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

(ईश्‍वर) / सबीर हका

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 01:00, 19 दिसम्बर 2015 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=सबीर हका |अनुवादक=गीत चतुर्वेदी |...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

(ईश्‍वर) भी एक मज़दूर है
ज़रूर वह वेल्‍डरों का भी वेल्‍डर होगा।
 
शाम की रोशनी में
उसकी आँखें अंगारों जैसी लाल होती हैं,
 
रात उसकी क़मीज़ पर
छेद ही छेद होते हैं।

अँग्रेज़ी से अनुवाद -- गीत चतुर्वेदी