भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

212 / हीर / वारिस शाह

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 17:13, 3 अप्रैल 2017 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=वारिस शाह |अनुवादक= |संग्रह=हीर / व...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

डोली चढ़दयां मारियां हीर चीकां मैंनूं लै चले बाबला लै चले वे
मैंनूं रख लै बाबला हीर आखे डोली घत कहार नी लै चले वे
मेरा आखया कदी न मोड़दा सैं उह समें बाबल किथे गये चले वे
तेरी छतर छावें बाबल रूख वांगू घड़ी वांग मुसाफरां बह चले वे
दिन चार न रज अराम पाया दुख दरद मुसीबतां सह चले वे
साडा बोलया चालया माफ करना पंज रोज तेरे घर रह चले वे
लै वे रांझया रब्ब नूं सौंपयों तूं असी जालमा दे वस पै चले वे
जेहड़े नाल खयाल उसारदी सां खाने सभ उमैद दे ढह चले वे
असां वत ना आय के खेडना ई बाजी इशक वाली करके तह चले वे
सैदे खेड़े दी अज मुकान होई रोन पिटन करदे हाए हाए चले वे
चारे कन्नियां मेरियां वेख खाली असीं नाल नहीयों कुझ लै चले वे
कूड़ी दुनियां ते शान गुमान कूड़ा वारस शाह होरीं सच कह चले वे

शब्दार्थ