भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"सुबह" क्या सचमुच होगी ? / एमिली डिकिंसन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

'सुबह' क्या सचमुच होगी ?
'दिन' जैसी कोई वस्तु होती है क्या ?
क्या मैं उसे पहाड़ों से देख पाती
यदि मैं उन्हीं की तरह ऊँची होती ?

क्या उसके कुमुदिनी की तरह पैर हैं ?
क्या उसके पंछी की तरह पर हैं ?
क्या वह उन प्रसिद्ध देशों से आयात होती है
मैंने जिनके बारे में कभी नहीं सुना ?

अरे कोई विद्वान! अरे कोई नाविक!
अरे कोई जादूगर आकाश का !
छोटे-से इस तीर्थयात्री को बताएगा
वह जगह जिसे 'सुबह' कहते हैं, कहाँ होती है !


अंग्रेज़ी से अनुवाद : क्रांति कनाटे