भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अँबुज कँज से सोहत हैँ अरु / अज्ञात कवि (रीतिकाल)

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अँबुज कँज से सोहत हैँ अरु ,
अरु कँचन कुँभ बने छए हैँ ।
बारे खरे गदकोर महावर ,
पारे लसे अरु मैन छए हैँ ।
ऊँचे उजागर नागर हैँ अरु ,
पीय के चित्त के मित्त भए हैँ ।
हैँ तो नये कुच ये सजनी पर ,
जौँ लौँ नए नहीँ तौँ लौँ नए हैँ ।


रीतिकाल के किन्हीं अज्ञात कवि का यह दुर्लभ छन्द श्री राजुल महरोत्रा के संग्रह से उपलब्ध हुआ है।