भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अंगना में नन्दरैया, देखी-देखी नितरैया / भवप्रीतानन्द ओझा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

झूमर (घाटवारी भादुरिया)
कृष्ण बाल-लीला वर्णन

अंगना में नन्दरैया, देखी-देखी नितरैया,
दैया, नाचत कन्हैया
ताली देथीं जशोमती मैया
रे दैया
झमकी-ठमकी तातक् थैया, रे दैया...
नीलमणि लजवैया, नाँगटे देहा शोभैया
दैया...
बथंना केॅ धूरो धुसरैया, रे दैया
चूड़ा में मोर पाँखैया, हाथें बासुरी बलैया
दैया...
दाँड़ा-पैरीं घुॅघरू पिन्हैया, रे दैया
वेदान्त के निचोरैया, नाचे भुवन गोसैयॉ
दैया...
भवप्रीताक नैया खेवैया, रे दैया।