भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अंग-अंग पर अनंग के राज / जयराम दरवेशपुरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हउले-हउले हावा गुनगुना हइ फाग राग रे
सुख के सौगात लेले अइलइ रितुराज रे

पंचम सुर में तितली गावे हरियर चुह-चुह बाग में
मदमातल भौरन बइठल हे फूलल फूल पराग में
उतरल बगिया में बहुरंगी इंद्रधनुष साज रे

सूआपंखी चुनरी पेन्हली धरती बनल बिहउती
आम महुइया लथरल-लथरल अनमन जस परसउती
भोर किरिनियाँ हुलसल हुलकत अँखिया भरल बिहाग रे

लदबुद रहरी खंधा नाचे तीसी आउ मसुरिया
बूंट केरइया गदरइलइ गन लटकल लाम छिमरिया
रसे-रसे रस के फुहार बरस रहल हे आज रे

पीऊ-पीऊ पपिहा के रसगर नीक लगऽ हे बोलिया
परदेसी साजन के जइसे लगइ नीक ठिठोलिया
बेसुध तन के अंग-अंग पर जस अनंग के राज रे