भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अंदाज़ से तो साफ़ हिक़ारत सी लगे है / मनु भारद्वाज

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अंदाज़ से तो साफ़ हिक़ारत सी लगे है
कैसे यक़ीन कर लूँ मुहब्बत सी लगे है

हर रोज़ मेरे ग़म को हवा मिलती है जनाब
इक शख्स की ये मुझपे इनायत सी लगे है

पढ़कर के जिसे जान सी निकले हरेक बार
कहने को तो ये चीज़ तेरे ख़त सी लगे है

लगती है खिलोने की तरह सबको मुहब्बत
दिल तोड़ना भी एक रवायत सी लगे है

उनके मिज़ाज को न समझ पाया मैं कभी
मेरी हरेक बात शिक़ायत सी लगे है

अब उनसे क्या कहें 'मनु' जाकर के दिल की बात
जिनको हमारे नाम से नफरत सी लगे है