भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अच्छा था बीत जातीं गर कुछ रातें और भी / कबीर शुक्ला

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अच्छा था बीत जातीं गर कुछ रातें और भी।
बीत जाता दौर-ए-अलम बरसातें और भी।
 
शामें-हिज्राँ शबे-फ़िराक के अलावा भी मेरे,
ग़मे-कल्ब भी कई हैं कई हैं बातें और भी।
 
माभम अज़ीयत अश्क बनके छलक रहे हैं,
रुलाती हैं माज़ी बेरब्त मुलाकातें और भी।
 
बेनाम-ओ-नमूद की मुहब्बत मेरी हिरासा है,
सताती हिस्से-लताफ़त की सौगातें और भी।
 
चंद शेर-ओ-शायरी-ओ-अफ़कार खातिर,
दे दो स्याही भरी हुई कुछ दवातें और भी।