भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

अछवानी बरनन / रसलीन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कैसहुँ बहू अछवानी न पीवत केतो खरी ढिग सास निहोरै।
हाथ लिये चमचा झिझकै मुख लावत ओंठ औ नाक सिकौरै।
सोंठ लगी गरवैं तबहीं भरि नैनन मैं अँसुवा मुख मोरै।
एरी लखो एहिं रूप सुहावन नारिन को मन कों यह चोरै॥93॥