भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अतुल आनन्द भर मन में / हनुमानप्रसाद पोद्दार

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

 अतुल आनन्द भर मन में पुकारो-भानु-नृप की जय।
 मोद में मस्त हो बोलो-मातु श्री कीर्तिदा की जय॥
 भाद्रपद मास की जय-जय, पक्ष शुभ शुकन की जय-जय।
 रुचिर तिथि अष्टमी की जय, काल मध्याह्न की जय-जय॥

 सरस वृषभानुपुर की जय, भानु के महल की जय-जय।
 कीर्ति के प्रसव-गृह की जय, चमारिन दा‌ई-मा की जय॥
 चूर आनन्द-मद में, आज बोलो-राधिका की जय।
 सलोने साँवरे गोविन्द राधा-प्राण की जय-जय॥

 परस्पर चाव की जय-जय, प्रेम के भाव की जय-जय।
 ‘तत्सुखी प्रेम’ की जय-जय, प्रेम के नेम की जय-जय॥
 अनोखे त्याग की जय-जय, विलक्षण राग की जय-जय।
 मधुर अनुराग की जय-जय, हमारे भाग की जय-जय॥

 परम आह्लाद से बोलो-अह्लादिनी राधिका की जय।
 अह्लादिनी के परम प्रियतम मनोहर श्याम की जय-जय॥