भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

अब कुछ उस पार की भी सोचो / देवेन्द्र आर्य

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अब कुछ उस पार की भी सोचो।
जिस पार कोई संसार नहीं
मृग-तृष्णा का व्यापार नहीं
ऐसे घर- बार की भी सोचो।

बस प्यार-प्यार
जी अगुताया
चूल्हा-चौका तो लक-दक है
पर जीवन कींचड़ धिसराया
पहने पहने इन चरक चढ़े कपड़ों से मन आजिज आया
कुछ लुंगी छाप समय भी हो
थोड़ा तकरार की भी सोचो।

अब आप टप्प से बोलेंगे
मेरे भीतर की छिपी हुई सारी जड़ताएँ खोलेंगे
है कौन यहाँ परिपूर्ण मियाँ
चौबिस कैरेट का , देखूँ तो !
जीवन भर औरों की सोचे
अपने किरदार की भी सोचो।

पेंशन के दिन नज़दीक हुए
हम कभी कभार याद आ जाने वाली एक तारीख़ हुए
जितने भी तीर मारने थे सब मार चुके
सुन बे जहुए
जबतक गोदाम न खाली हो
तो नया मॉल आये कैसे
कुछ तो बाज़ार की भी सोचो।

हरदम गरिष्ट ही नहीं, कभी
थोड़ा बेकार की भी सोचो।