भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

असुरों ने आ किया आक्रमण / हनुमानप्रसाद पोद्दार

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

(राग नारायणी-तीन ताल)
असुरोंने आ किया आक्रमण देवोंपर सहसा उद्दण्ड।
 सुर-पुकार सुन, उठे रोषभर हरि, ताना कठोर कोदण्ड॥
 धर प्रत्यञ्चा खींचा धनुको, हु‌आ भयानक धनु-टंकार।
 भडक़ उठी ज्वाला भीषण, उमड़ा कालानल कर हुंकार॥
 होगा अब विनष्ट जल-भुनकर असुरोंका सारा समुदाय।
 यों फिर साधु बनेंगे सब वे तजकर अघ-‌अनीति-‌अन्याय॥