भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आज़ादीअ खां पोइ / हरि दिलगीर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हुई उम्मीद त रोशन दिमाग पसंदासीं,
ख़बर हुई न त चिबिरा ऐं ज़ाग़ पसंदासीं।

खि़यालु हो, कंदो दिलबर जो रुखु़ शकी सिज खे,
मगर न कोढ़ जा हिअं दाग़-दाग़ पसंदासीं।

हुई न कल, त थिबो दरबदर ऐं ख़ाक बसर,
असां त समुझो हो, फ़रहत फ़राग़ पसंदासीं।

चुभनि था ख़ार, ऐं बर में सुके थो साहु हिंअर,
हुई उम्मीद त जन्नत जा बाग़ पसंदासीं।

असांजे लेखे, नओं घरु असां जो भी थींदो,
पुठियां न पंहिंजे, सिपाही सुराग़ पसंदासीं।

ॾियो न, तेलु न, तीली न, वटि न, ऊंदहि आहि,
असांजो ख़वाबु हो, चौधरि चराग़ पसंदासीं।