भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आरति राधा-राधाबर की / हनुमानप्रसाद पोद्दार

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आरति राधा-राधाबर की।
महाभाव रसराज-प्रवर की॥

स्याम बरन पीतांबर-धारी।
हेम बरन तन नीली सारी॥
सदा परस्पर सुख-संचारी।
नील कमल कर मुरलीधर की।
आरति राधा-राधाबर की॥-१॥

चारु चन्द्रिका मन-धन-हारी।
मोर-पिच्छ सुंदर सिरधारी॥
कुंजेश्वरि नित कुंज-बिहारी।
अधरनि मृदु मुसुकान मधुर की।
आरति राधा-राधाबर की॥-२॥

प्रेम-दिनेस काम-तम-हारी।
रहित सुखेच्छा निज, अविकारी॥
आश्रय-विषय परस्पर-चारी।
पावन परम मधुर रसधर की।
आरति राधा-राधाबर की॥-३॥

निज-जन नेह अमित बिस्तारी।
उर पावन रस-संग्रहकारी॥
दिव्य सुखद, दुख-दैन्य-बिदारी।
भक्त-कमल-हित हिय-सरबर की।
आरति राधा-राधाबर की॥-४॥