भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आरति श्रीबृषभानुसुता की / हनुमानप्रसाद पोद्दार

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आरति श्रीबृषभानुसुता की।
मंजु मूर्ति मोहन-ममता की॥

त्रिबिध तापजुत संसृति-नासिनि,
बिमल बिबेक-बिराग-बिकासिनि,
पावन प्रभु-पद-प्रीति-प्रकासिनि
सुन्दर-तम छबि सुन्दरता की॥-१॥

मुनि-मन-मोहन मोहन-मोहिनि,
मधुर मनोहर मूरति-सोहनि,
अबिरल प्रेम-‌अमिय-रस-दोहनि,
प्रिय अति सदा सखी ललिता की॥-२॥

संतत सेव्य संत-मुनि-जन की,
आकर अमित दिय गुन-गन की,
आकर्षिणी कृष्ण-तन-मन की,
अति अमूल्य सपति समता की॥-३॥

कृष्णात्मिका, कृष्ण-सहचारिनि,
चिन्मय बृन्दा-बिपिन-बिहारिनि,
जगज्जननि जग-दुःख-निवारिनि,
आदि अनादि सक्ति बिभुता की॥-४॥