भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

आसमां / पवन कुमार

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आसमां
जहाँ तक देखो
बस एक सा दिखता है
कहीं वो ख़ाने
नहीं हैं इसमें
जिनमें कि ये बँटा हो
कोई लकीर नहीं है
कोई पाला भी नहीं है
कि जिससे साबित हो सके
इधर का हिस्सा हमारा
उधर का तुम्हारा।
भरी आँखों तक
बस
एक सा दिखता है।
ये दौरे-खि़रद की गुस्ताखि़याँ
नहीं तो क्या है,
आसमां में हिस्सेदारी
तय हो रही है
ख़ुदा की अमानत में
ख़यानत हो रही है।
...वाह रे! सियासतदानो
ये कैसी सियासत है
ये कैसा फि’क्रो-अमल है।