भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आस्था / जगदीश गुप्त

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जो कुछ प्राणों में है
   प्यार नहीं,
       पीर नहीं,
           प्यास नहीं —

जो कुछ आँखों में है
   स्वप्न नहीं,
       अश्रु नहीं,
             हास नहीं —

जो कुछ अंगों में है
    रूप नहीं,
         रक्त नहीं
               माँस नहीं —

जो कुछ शब्दों में है
     अर्थ नहीं,
           नाद नहीं,
                श्वास नहीं —

उस पर आस्था मेरी।
उस पर श्रद्धा मेरी।
उस पर पूजा मेरी।