भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

ईशी के लिए / पवन कुमार

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अब
दुनिया के मैदान-ए-जंग में
जब आ ही गई हो तुम,
तो
कुछ मसअले
कुछ नसीहतें
कुछ फि’करें
कुछ अक़ीदतें
कुछ फ’न
कुछ शरीअतें
अपने बटुए में रख लो।
ये सारी मुहरें
मैंने
और तुम्हारी माँ ने
वक्त को ख़र्च करके
ख़रीदी हैं।