भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

उस सफीने को फिर क्यूँ डुबाने लगे / मासूम गाज़ियाबादी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

उस सफीने को फिर क्यूँ डुबाने लगे
जिसको साहिल पे लाते ज़माने लगे

रंग मुद्दत में कलियों पे आया था, तुम
तब्सिरा फिर खिज़ां पर सुनाने लगे

बिजलियों से कहो फिर से तैयार हों
आशियाँ आज फिर हम बनाने लगे

लोग दर से जहेजों के ए मोहतरम!
बेटियों की खुराकें घटाने लगे

जिनके चेहरों पे नाखून के हैं निशाँ
वो शरीफों पे ऊँगली उठाने लगे