भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ऐ दिल तू इबादत के लिये जायेगा किधर / कबीर शुक्ला

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ऐ दिल! तू इबादत के लिए जाएगा किधर।
लोग कहते हैं ये मंदिर ये मस्जिद की डगर।
 
इस कदर अंधा है इंसाँ यहाँ क्यूँ मेरे मौला,
बाँट डाला है ख़ुदी में उस खुदा का ही घर।
 
हाय रे इंसान और हाय क्या तेरी समझ है,
बाँट डाला रंगों को भी मजहब के नाम पर,
 
कपड़े पग टीका पहचान बने इंसान की,
धरम के नाम पर ही पहचाने जाते हैं शहर।
 
उम्र गुजरती है जहाँ में प्यार की जुस्तजू में,
प्यार था देना जिनको उसने बरपाया कहर।
 
ना बनाना किसी जाति धरम का मुझको,
फिर बनाना मुझे इंसाँ इस जहाँ में अगर।
 
बस्तियाँ सहमी हुई चमन फूटकर रोता है,
 'कबीर' कर ले तू इबादत पहर दो पहर।