भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कस कर कमर समर की तयारी करौ / नाथ कवि

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कस कर कमर समर की तयारी करौ।
आयौ द्वार दुश्मन ताहि मार कैं भगावेंगे॥
गावेंगे सु-एकता के सुन्दर अनूठे राग।
हिन्दू औ मुसलिम समस्या सुलझायेंगे॥
आयेंगे न अब हम विदेशियों की चालों में।
भारत को जल्दी आजाद भी बनायेंगे॥
नावेंगे न माथ ‘नाथ’ जौ लौ वीर भारत के।
तन धन, बाकी तौ लौ भारत बचायेंगे॥