भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

काबिल के कहल कखनियो न करलक / विजेता मुद्‍गलपुरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

काबिल के कहल कखनियो न करलक
करलक कहल हमेशा ज्ञान हीन के
सनकी शराब के सवार भेल सीर पर
अपना के शाह बुझलक दीन-हीन के
दीन-हीन दारू पी के दहारै दवंग सन
देह नै सम्हार में बढ़ावै डेग गीन के
भनत विजेता बस एक चूरू दारू लेली
मनुष के तन, मन जल हीन मीन के