भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

काबिल के कहल कखनियो न करलक / विजेता मुद्‍गलपुरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

काबिल के कहल कखनियो न करलक
करलक कहल हमेशा ज्ञान हीन के
सनकी शराब के सवार भेल सीर पर
अपना के शाह बुझलक दीन-हीन के
दीन-हीन दारू पी के दहारै दवंग सन
देह नै सम्हार में बढ़ावै डेग गीन के
भनत विजेता बस एक चूरू दारू लेली
मनुष के तन, मन जल हीन मीन के