भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चुम्बन / मरीना स्विताएवा / मनोज पटेल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

माथे पर एक चुम्बन — पोंछ देता है दुर्भाग्य,
मैं चूमती हूँ तुम्हारा माथा !

आँखों पर एक चुम्बन — हर लेता है अनिद्रा,
मैं चूमती हूँ तुम्हारी आँखें !

होंठों पर एक चुम्बन — बुझा देता है सबसे गहरी प्यास,
मैं चूमती हूँ तुम्हारे होंठ !

माथे पर एक चुम्बन — मिटा देता है स्मृति,
मैं चूमती हूँ तुम्हारा माथा !
  
अँग्रेज़ी से अनुवाद : मनोज पटेल