भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ज़िन्दगी में बस यही इक सिलसिला बदला नहीं / सूफ़ी सुरेन्द्र चतुर्वेदी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ज़िन्दगी में बस यही इक सिलसिला बदला नहीं ।
लाख बदले हमने मन्दिर, देवता बदला नहीं ।

उड़ कहीं भी आए बदले पेड़, गुलशन, टहनियाँ,
हमने लेकिन ज़िन्दगी में घौंसला बदला नहीं ।
.
जान कर भी उस गली में अब नहीं रहता है वो,
क्या पता क्यों हमने अपना रास्ता बदला नहीं ।

इस शहर में हर कोई अपनी जगह बदला किया,
बस फ़क़ीरों ने यहाँ अपना पता बदला नहीं ।

वक़्त ने दे दी हमीं यूँ तो सज़ा-ए-मौत भी,
हम हैं ज़िन्दा उसने चाहे फ़ैसला बदला नहीं ।

हमने सोचा पूज कर उसको वफ़ा सिखलाएँगे,
देवता तो बन गया पर बेवफ़ा बदला नहीं ।

जिसने जब-जब भी लिखी है ज़िन्दगी की ये ग़ज़ल,
बस रदीफ़ों को ही बदला काफ़िया बदला नहीं ।