भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

जीते अंगरेज और हारे हर हिटलहर हु / नाथ कवि

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जीते अंगरेज और हारे हर हिटलहर हु,
जो पै सहयोग भव्य भारत का पायेंगे।
झूठे वायदों से ये न मानें कभी नेतागण,
कर दो आजाद फिर जौहर दिखायेंगे॥
हम भी तो देखें कैसे आते हैं नाजी पाजी,
मार मार दुश्मन को रण से भगायेंगे॥
‘नाथ’ हम भारती न हारें कभी हिम्मत को,
हमें कलपायेंगे तो कैसे कल पायेंगे॥